दखल

सामाजिक क्षेत्र में दायित्व निर्वहन करने के दावे करने वाली एचआरटीसी शायद ही कोई ऐसा वर्ष रहा होगा, जब घाटे का राग अलापते न थकी हो। धूमल सरकार ने निगम की पतली हालत के चलते वित्तीय ग्रांट 80 करोड़ तक कर दी है। बावजूद इसके निगम का घाटा कम होने का नाम नहीं ले रहा।

दिहि ः अढ़ाई साल के कार्यकाल के सबसे सुखद क्षण सरकार के लिए कौन से रहे?   धूमल ः हर पल जनता की सेवा में समर्पित रहा। योजनाओं के कार्यान्वयन के बाद लोगों के चेहरे पर खुशी से सुकून मिला। चाहे वे किसान बागबान हैं या फिर दैनिकभोगी कर्मी।  दिहि ः ऐसा काम जो आप चाहकर

धूमल सरकार ने अपने अढ़ाई साल के कार्यकाल के दौरान हालांकि हर क्षेत्र में विकास को गति देने का पुरजोर प्रयत्न किया है, मगर  अभी भी पर्यटन एक ऐसा क्षेत्र है, जहां बहुत कुछ किया जाना बाकी है। इस क्षेत्र में योजनाएं तो बहुत बनाई गईं, मगर उन्हें अमलीजामा नहीं पहनाया जा सका है। विशेष