कम्पीटीशन रिव्यू

जिला कांगड़ाः बाबा गोरख नाथ जी की डिब्बी- यह स्थान ज्वालाजी मंदिर के साथ है। जिला मंडीः तत्तापानी- यह स्रोत नालदेहरा से 29 किलोमीटर दूर है। इसके बाईं ओर सतलुज बहती है। जिला किन्नौरः टापरी- यह किन्नौर जिला का प्रसिद्ध गर्म पानी का चश्मा है। यह स्रोत पर्यटकों में बहुत लोकप्रिय है। जिला शिमलाः ज्यूरी-

पिछले दिनों ‘दिव्य हिमाचल’ द्वारा आयोजित ‘मिस हिमाचल’ प्रतिस्पर्धा में गांव व शहर से आईं प्रतिभागी टेलेंटेड थीं, परंतु आत्मविश्वास की कमी होने से कुछ प्रतिभागी आगे आने से चूक गईं। आत्मविश्वास की कमी होने से आपकी प्रस्तुति में कमियां रह जाती हैं। आप टेलेंटेड हैं, सुंदर हैं, आपकी लंबाई भी अच्छी है, चाल में

इनसान अपनी आंतरिक चेतना, भावनाओं और विचारों को यादगार बनाने के लिए कई तरह के प्रयोग करता है। इन सबके लिए वह पुराने समय के ड्राइंग, चिन्ह, मूल विषयों और हस्तलिखित दस्तावेजों का सहारा लेता है। पुराने समय में पत्थरों का प्रयोग शिकार के लिए किया जाता था, परंतु आज इनका प्रयोग ज्ञान और कल्पना

सेमी-परमानेंट नेल कल्चरः  अगर आपका कोई नाखून किसी कारण से टूट गया है। इस कारण अब आप अपने बाकी नाखूनों को एक-जैसे आकार में लाने के लिए कटिंग करने जा रही हैं, तो आपके लिए सेमी-परमानेंट नेल कल्चर एक बेहतरीन उपाय है। इस तकनीक से आप अपने टूटे हुए नाखूनों को फिर से उसी आकार में

पिछले कुछ सालों से निजी और सरकारी क्षेत्र के इंश्योरेंस उद्योगों में प्रोफेशनल्स की काफी वृद्धि हुई है। ऐसे बहुत से प्रोफेशनल्स हैं, जो निजी और सरकारी इंश्योरेंस कंपनियों में कार्य कर रहे हैं। सरकारी इंश्योरेंस कंपनियों में भारतीय जीवन बीमा निगम(एलआईसी), जनरल इंश्योरेंस कारपोरेशन और पोस्टल लाइफ इंश्योरेंस इत्यादि प्रमुख हैं, जबकि निजी क्षेत्र