ऑक्सीजन की कालाबाजारी करने वालों को हो आजीवन कारावास

By: May 11th, 2021 12:02 am

कोरोना संकट के चलते प्रदेश कर्मचारी संघर्ष मोर्चा ने सजा देने की उठाई मांग

निजी संवाददाता-भवारना
प्रदेश कर्मचारी संघर्ष मोर्चा ने कोरोना से हो रही मौतों पर शोक प्रकट करते हुए कहा कि ऑक्सीजन की काला बाजारी करने वाले लोगों को आजीवन कारावास दिया जाए। मोर्चा अध्यक्ष प्रवीण शर्मा, प्रदेश महासचिव अरुण कानूनगो, उपाध्यक्ष रजिंद्र स्वदेशी, महिला विंग अध्यक्ष रीता शर्मा, चंबा अध्यक्ष जोगिंद्र पठानिया, चंबा महासचिव राजेश शर्मा, हमीरपुर अध्यक्ष संजय कुमार, सिरमौर अध्यक्ष सुमन व अन्य ने मांग की कि ऑक्सीजन की कालाबाजारी करने वाले लोगों को आजीवन कारावास की सजा दी जाए। अध्यक्ष प्रवीण शर्मा ने कहा कि इस आपदा के समय में जहां लोग तड़प-तड़प कर मर रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ देश के दुश्मन इस घड़ी में भी काला बाजारी कर रहे हैं। प्रदेश के बहुत से बेरोजगार युवा दिल्ली में अपनी आजीविका के लिए कंपनियों में कार्यरत हैं और कोरोना के कहर से जूझ रहे हैं। इनके लिए किसी प्रकार की सामाजिक सुरक्षा नहीं है, परंतु दिल्ली सरकार के मंत्री ऑक्सीजन का भंडार अपने घरों में रख रहे हैं, ताकि जो अभी बीमार नहीं हैं। उनके बीमार होने पर छिपाई गई ऑक्सीजन उन्हें मिल सके, जो अभी बीमार नहीं हैं।

कर्मचारी संघर्ष मोर्चा विभिन्न विभागों में कार्यरत निजी व सरकारी कर्मचारियों के लिए 50 लाख की बीमा योजना लागू करने की मांग करता है और यह पूरे देश के कर्मियों पर लागू हो। चाहे वे निजी कंपनी में हों या फिर सरकारी हों । उन्होंने कहा कि जिस प्रकार से कर्मचारी कोरोना से हताहत हो रहे हैं। ऐसे में उनके परिवारों के लिए बीमा योजना जरूरी है। जरूरत पडऩे पर हम एटीएम से पैसे निकलवा लेते हैं, परंतु यह नहीं सोचते कि इन पैसों को एटीएम में कौन रखता है। इसके लिए भी कर्मचारी नियुक्त हैं, जो मात्र 8000 रुपए में हर एटीएम में लोगों की सुविधा के लिए पैसे रखते हैं। अगर ऐसे कर्मी कोरोना पॉजिटिव होंगे, तो फिर इनके परिवारों को सामाजिक सुरक्षा कौन देगा, क्योंकि इनकी कोई पॉलिसी नहीं है। कोई वेतनमान नहीं है। ऐसे बहुत से आर्थिक रूप से कमजोर कर्मी हैं, जिनका वेतन बहुत कम है और कार्य बहुत कठिन है। ऐसे में सरकार को चाहिए कि इस आपदा के समय में आर्थिक रूप से कमजोर कर्मियों की सैलरी में बढ़ोतरी की जाए व हर कर्मी का बीमा किया जाए, ताकि परिवार असुरक्षित न हो। संघर्ष मोर्चा दिल्ली केजरीवाल सरकार से निवेदन करता है कि दिल्ली में काला बाजारी बंद हो और हिमाचल के ही नहीं, बल्कि देश के हर हिस्से से आएं, सभी लोग जो दिल्ली में निजी कंपनियों को अपने सेवाएं दे रहे हैं, उनकी सुरक्षा की जाए।