श्री रामा मंदिर त्रिप्रायर

By: May 8th, 2021 12:21 am

राजस्थान अरावली की सुरम्य पहाडि़यों में स्थित परशुराम महादेव गुफा मंदिर का निर्माण स्वयं परशुराम ने अपने फरसे से चट्टान को काटकर किया था। इस गुफा मंदिर तक जाने के लिए 500 सीढि़यों का सफर तय करना पड़ता है। इस गुफा मंदिर के अंदर एक स्वयंभू शिवलिंग है…

हमारे देश में अनगिनत धार्मिक स्थल हैं, जिनमें कोई एक धर्म शामिल नहीं, बल्कि भारत में रहने वाले प्रत्येक समुदाय के लोगों से जुड़े धार्मिक स्थल हैं, जो अपनी-अपनी विशेषता के चलते देश के साथ-साथ दुनिया भर में प्रसिद्ध हैं। इन्हीं में से एक धार्मिक स्थल है केरल में स्थित श्रीराम का। वैसे तो केरल में भगवान श्रीराम के अनेक मंदिर हैं, किंतु त्रिप्रायर में स्थित श्री रामा मंदिर की अपनी अलग विशेषता है।

त्रिप्रायर नदी के किनारे स्थित त्रिप्रायर श्री रामा मंदिर कोडुन्गल्लुर का प्रमुख धार्मिक स्थान है। त्रिप्रयार श्री रामा मंदिर भारत के केरल राज्य में त्रिशूर नामक शहर से लगभग 25 किलोमीटर की दूरी पर दक्षिण पश्चिमी शहर में स्थित है। यहां भगवान विष्णु के सातवें स्वरूप श्रीराम की पूजा-अर्चना की जाती है। मंदिर में प्रचलित किंवदंतियों की बात करें, तो इससे जुड़ी कई किंवदंतियां हैं। इस मंदिर के बारे में प्रसिद्घ है कि यहां स्थापित मूर्ति इस स्थान के मुखिया को समुद्र तट पर मिली थी। जिसमें भगवान ब्रह्मा, भगवान विष्णु और शिव के तत्त्व हैं, ऐसा माना जाता है, अतः इस मूर्ति की पूजा त्रिमूर्ति के रूप में की जाती है।

यह मंदिर अरट्टूपुझा पूरम उत्सव के लिए प्रसिद्ध है। मंदिर के परिसर में एक गर्भगृह और एक नमस्कार मंडपम भी है, जहां रामायण काल के चित्र हैं और नवग्रहों को दर्शाती हुई लकड़ी की नक्काशी और प्राचीन भित्ति चित्र हैं। त्रिप्रायर श्री रामा मंदिर में पारंपरिक कलाओं जैसे कोट्टू (नाटक) का नियमित प्रदर्शन भी किया जाता है।