104 रुपए में मिल रहा मक्की का सिंगल क्रॉस बीज

By: May 14th, 2021 12:12 am

दिव्य हिमाचल ब्यूरो- चंबा
जिला चंबा में इस समय कुछ क्षत्रों में गेहूं की कटाई का कार्य चल रहा है, तो दूसरी तरफ विकास खंड तीसा के अधिकतर भागों में मक्की की बिजाई का कार्य चल रहा है। उपायुक्त चंबा डीसी राणा ने बताया कि कोरोना कफ्र्यू के दौरान जिला चंबा के किसानों को कृषि कार्यों को करने में कोई मुश्किल न हो इसलिए बीज, खाद, कीटनाशकों या कृषि उपकरणों को उपलब्ध करवाने वाले निजी व सरकारी विक्रय केंद्रों को सुबह दस बजे से लेकर दोपहर एक बजे तक खुला रखने के आदेश पहले ही कोरोना कफ्र्यू की अधिसूचना में जारी कर दिए थे। इस संबंध में कृषि उपनिदेशक डा. कुलदीप धीमान से दिनांक 13-05-2021 को समीक्षा करने के बाद उपायुक्त डीसी राणा ने जानकारी दी कि पिछले वर्षों में जिला चंबा में बीज की खपत को ध्यान में रखते हुए इस वर्ष 1900 क्विंटल मक्की व 160 क्विंटल धान का बीज कृषि विभाग के माध्यम से उपलब्ध करवाया जा रहा है।

विकास खंड तीसा के किसानों ने 15 दिन पहले से ही मक्की का बीज खरीद कर खेतों में बिजाई शुरू कर दी थी। इसलिए विकास खंड तीसा के लिए कृषि विभाग द्वारा 550 क्विंटल मक्की का बीज उपलब्ध करवा दिया गया था और इस समय विकास खंड तीसा के ऊपरी क्षेत्रों में मक्की की बिजाई का कार्य पूर्ण होने बाला है। इसी प्रकार जिला चंबा के अन्य विकास खंडों में भी कृषि विभाग के सभी विक्रय केंद्रों में मक्की का बीज उपलब्ध है कृषि विभाग द्वारा बीज कृषि सहकारी सभाओं के माध्यम से भी किसानों को उपलब्ध करवाया जाता है। इसलिए उपायुक्त ने आदेश दिए की जिन कृषि सहकारी सभाओं का बीज बेचने का लाइसेंस बना है उन सभी कृषि सहकारी सभाओं के माध्यम से किसानों को मक्की व धान का बीज अनुदान पर उपलब्ध करवाएं, ताकि किसानों को कोरोना कफ्र्यू के दौरान बीज व खाद लेने के लिए अपने घर से ज्यादा दूर न जाना पड़े।

उन्होंने कहा कि इस वर्ष मक्की के सिंगल क्रॉस वाले बीज का कुल मूल्य 104 रुपए तथा डबल क्रॉस वाले बीज का कुल मूल्य 87 रुपए है, परंतु सभी किसानों को दोनों प्रकार के मक्की के बीज पर 40 रुपए प्रति किलो की दर से अनुदान दिया जा रहा है। कृषि उपनिदेशक, चंबा डा. कुलदीप धीमान से प्राप्त जानकारी के अनुसार विकास खंड चवाड़ी में 15 मई के बाद धान का वीज भी सभी किसानों के लिए उपलब्ध रहेगा। उन्होंने कहा कि इस वर्ष जिला चंबा के किसानों को केवल कृषि विशवविद्यालय पालमपुर द्वारा विकशित धान की प्रजातियों का बीज ही उपलब्ध करवाया जाएगा और यदि समय पर विजाई कर दी जाये तो यह सभी प्रजातियां अधिक पैदावार देने वाली है उन्होंने किसानों से अनुरोध किया है कि किसान सिंचित क्षेत्रों मे कृषि विभाग से प्राप्त धान की इन प्रजातियों की पनीरी की विजाई 25 मई से पहले कर दें, ताकि धान के पकने में कोई समस्या न हो और अधिक से अधिक पैदावार मिले। उन्होंने कहा कि वर्षात में लगने वाली सब्जियों के बीज भी सभी किसानों के लिए कृषि विभाग के विक्रय केंद्रों में अनुदान पर उपलब्ध है।