कांगड़ा में कोरोना से हर घंटे एक मौत

By: May 11th, 2021 12:02 am

संक्रमण की दूसरी लहर ने हिलाया जिला, साढ़े आठ हजार पहुंचा एक्टिव मामलों का आंकड़ा

दिव्य हिमाचल ब्यूरो – धर्मशाला
प्रदेश के सबसे बड़े जिला कांगड़ा में कोरोना संक्रमण पीक पर है। दूसरी लहर ने जिला को हिला कर रख दिया है। यहां हर घंटे में संक्रमण से एवरेज एक व्यक्ति की मौत हो रही है। हर दिन प्रशासन को नए अस्पताल व बेड बढ़ाने की व्यवस्था करनी पड़ रही है। उपायुक्त कांगड़ा राकेश प्रजापति ने माना कि जिला में हर घंटे में एक मौत हो रही है, जो बड़ी चिंता की ओर इशारा है। उन्होंने लोगों से इस मुश्किल दौर में सहयोग करने की अपील की है। जिला में साढ़े आठ हजार से अधिक एक्टिव केस हैं, जो आने वाले दिनों में दस हजार हो जाएंगे। ऑक्सीजन पूरी होने का तो प्रशासन दाबा कर रहा है, लेकिन आईसीयू बेड गिने-चुने होने से मुश्किलें बढ़ती नजर रही हैं। यही वजह है कि जब लोग नहीं मान रहे, तो थोड़े-थोड़े अंतराल के बाद सरकार व प्रशासन को नई-नई गाइडलाइन जारी करनी पड़ रही है, जिससे हालात पर काबू पाया जा सके। कोरोना संक्रमण जानलेवा बन गया है।

पहले स्टेन में जहां बड़ी आयु के लोग ही कोरोना की चपेट में आ रहे थे, वहीं दूसरी लहर में नौजवान भी कोरोना संक्रमण का शिकार बन रहे हैं। हर दिन कहीं न कहीं से कोई मरने की खबर आ रही है। बिगड़े हालात को देखते हुए अब जिला प्रशासन उपमंडल स्तर पर कोविड अस्पताल बनाने की योजना पर काम कर रहा है। हालांकि पहले टांडा मेडिकल कालेज और धर्मशाला अस्पताल मेें ही कोरोना संक्रमित मरीजों की व्यवस्था की गई थी, लेकिन बिगड़े हालात के बाद पपरोला आयुर्वेदिक कालेज, जिला के आठ निजी अस्पतालों सहित राधा स्वामी सत्संग परौर में 250 बेड की व्यवस्था की गई है। इतना ही नहीं, अब टांडा मेडिकल कालेज सहित नूरपुर अस्पताल में भी कोरोना संक्रमित मरीजों के इलाज के लिए 50 बिस्तरों की व्यवस्था की जा रही है, लेकिन आईसीयू बेड न होने के कारण कई लोगों को जान गंवानी पड़ रही है।