टुल्लू पंप लगाया तो कटेगा कनेक्शन

By: May 8th, 2021 12:11 am

जल शक्ति विभाग रक्कड़ के एसडीओ संजीव राणा कीे पानी का दुरुपयोग करने वालों को दोटूक चेतावनी

स्टाफ रिपोर्टर—गरली
उपमंडल देहरा के अंतर्गत सभी इलाकों में टुल्लू पंप लगाकर पेयजल का दुरुपयोग करने वालों की अब खैर नहीं है। गर्मी का मौसम शुरू होते ही जल शक्ति विभाग कार्यालय परागपुर के अंतर्गत एक्सईएन संदीप चौधरी के सख्त दिशा-निर्देशों के अनुसार एसडीओ रक्कड़ संजीव राणा ने करते हुए कहा कि यदि इलाके में कोई टुल्लू पंप लगाकर पानी का दुरुपयोग करता पाया गया तो उक्त व्यक्ति का आगामी तीन महीने के लिए पेयजल कनेक्शन काट दिया जाएगा और साथ ही उसे निर्धारित जुर्माना भरना पड़ेगा। इतना ही नहीं इसके बाद नया कनेक्शन लेने के लिए डबल चार्जेंज देने होंगे।

वहीं एसडीओ संजीव राणा ने कहा कि अंडरग्राउड बनाए गए अवैध टैंकों पर भी विभाग की कड़ी नजर रहेगी। ऐसे लोगों पर नजर रखने के लिए जल शक्ति विभाग ने सब-डिवीजन स्तर पर टीमों का गठन किया है, जिन्हें समय-समय पर निरीक्षण करने के निर्देश दिए गए हैं। गर्मी में पेयजल किल्लत से निपटने के लिए जल शक्ति विभाग ने कमर कस ली है। इसके तहत विभाग हर तरह से पानी के सदुपयोग व प्रत्येक घर को पर्याप्त पानी उपलब्ध करवाने के लिए प्रयास कर रहा है। लोगों को पानी के सही उपयोग को लेकर जागरूक भी किया जा रहा है। पेयजल योजनाओं के मरम्मत कार्य शुरू कर दिए गए हैं। कई जगह इन कार्यों को पूरा कर लिया गया हैए जबकि किसी भी बड़ी समस्या से निपटने के लिए भी विभाग तैयार है।

सब-डिवीजन स्तर पर गठित की गई टीमें समय-समय निरीक्षण कार्य कर रही है। उधर विभाग के अधिशाषी अभियंता द्वारा एसडीओ जेई व वर्क इंस्पेक्टरों को निर्देश दिए गए हैं कि कहीं भी पानी समस्या हो तो तुरंत उसे हल किया जाए। यदि कोई पानी का दुरुपयोग करता पाया जाता है तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई अमल में लाई जाए। इसमें किसी प्रकार की लापरवाही सहन नहीं होगी। यदि किसी कर्मचारी की लापरवाही की वजह से लोगों को पानी की समस्या होती है तो उससे भी विभाग सख्ती से निपटेगा। एक्सईएन संदीप चौधरी ने कहा कि गलत तरीके से टुल्लू पंप लगाकर पेयजल का दुरुपयोग करने वालों पर विभाग नजर रखे हुए है। अभी तक ऐसा कोई मामला सामने नहीं आया है। इसमें पानी का कनेक्शन काटने सहित जुर्माने का भी प्रावधान है। लोगों को पर्याप्त मात्रा में पानी उपलब्ध करने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं। कर्मचारियों को निर्देश दिए गए हैं कि पानी की शिकायत आने पर तुरंत समस्या का हल करें।