बंदिशों का पहला दिन…कांगड़ा में सन्नाटा

By: May 11th, 2021 12:22 am

पालमपुर के बाजार वीरान

कार्यालय संवाददाता – पालमपुर
कोरोना से निपटने के लिए प्रदेश सरकार द्वारा बढ़ाई गई बंदिशों का असर पालमपुर उपमंडल के विभिन्न बाजारों में देखने को मिला। सख्त की गई बंदिशों व आवश्यक सामान की दुकानों के लिए निर्धारित किए गए तीन घंटे के समय के दौरान भी बाजारों में भीड़ कम ही देखने को मिली। पुलिस व प्रशासनिक अमला पूरी सक्रियता के साथ बाजारों में नजर आया और लोगों को जागरूक करता दिखा। पालमपुर उपमंडल में बाजार आठ से 11 बजे तक खुले और 12 बजे के बाद तो बाजारों में पूरी तरह सन्नाटा पसर गया।

पालमपुर सहित मारंडा, भवारना, पंचरुखी आदि मुख्य बाजारों के साथ गांव में भी दुकानदारों ने समय अवधि का पालन किया और 11 बजे दुकानें बंद कर दी गई। कोरोना काल में प्रदेश कृषि विवि भी पूरी एहतियात बरत रहा है और विवि के अंर्तगत आते सभी केंद्रों के प्रभारियों के साथ कुलपति प्रो. एचके चौधरी ने वर्चअुल बैठक के आयोजन के दौरान हालातों पर चर्चा की। कुलपति ने बताया कि छात्रावासों में इस समय 235 विद्यार्थी रह रहे हैं, जो सुरक्षा कदमों का पालन करते हुए अपने प्रयोगशाला व अनुसंधान कार्य कर रहे हैं। कुलपति ने सब केंद्रों के प्रभारियों से फीडबैक ली और उनको आवश्यक दिशा-निर्देश जारी किए।

आखिरी चेतावनी देकर छोड़ दुकानदार

डरोह। कोविड-19 माहमारी के चलते सरकार द्वारा लगाए कोरोना कफ्र्यू के पहले दिन भवारना पुलिस ने डरोह बाजार में गश्त कर दुकानदारों को प्रात: आठ से 11 बजे तक कफ्र्यू ढील का पालन करने के लिए सचेत किया और बिना मास्क दुकानदारों के चालान भी काटे। एसएचओ संजीव गौतम ने लोगों से अपील की कि सरकार द्वारा निर्धारित इस समय में घर का एक ही आदमी जरूरी समान लेने के लिए निकलें, जिससे न बाजार में भीड़ होगी। हैरानी की बात है कि एसएचओ ने अपनी पुलिस टीम सहित डरोह बाजार का करीब साढ़े 11 बजे दोबारा दौरा किया, मगर कुछ दुकानदारों ने अपनी दुकानें पूर्ण रूप से बंद नहीं की थीं, जिसे देख एसएचओ दुकानदारों से सख्ती से पेश आए और कोरोना कफ्र्यू के दूसरे दिन 11 बजे से पहले दुकानें पूर्ण रूप से बंद न होने पर दुकानदारों के चालान काटने की चेतावनी भी दी। एसएचओ भवारना संजीव गौतम ने बताया कि सरकार द्वारा दिए गए निर्देशों का पालन न करने वाले दुकानदारों व लोगों को पहले दिन चेतावनी देकर छोड़ दिया है।