नाहरवन के जंगल में लाश

By: May 10th, 2021 12:22 am

डीएनए और पोस्टमार्टम के लिए टीएमसी भेजा शव, शिनाख्त पर संशय बरकरार

दिव्य हिमाचल ब्यूरो-ज्वालामुखी
ज्वालामुखी उपमंडल की ग्राम पंचायत नाहरवन के जंगल में रविवार को एक शव बरामद हुआ, जिसमें काफी देर तक चली पुलिस की शिनाख्त के बाद अभी तक शव की पहचान को लेकर संशय बरकरार है। गौरतलब है कि 22 अप्रैल को नाहरवन पंचायत से ही सेवानिवृत्त अध्यापक प्रकाश जग्गी पुत्र बाबू राम 65 वर्षीय पंजियाड़ा अधवानी ज्वालामुखी की गुमशुदगी की रिपोर्ट थाना में दर्ज करवाई गई थी और पुलिस ने भी काफी दिनों तक इसका सर्च अभियान छेड़ रखा और जगह-जगह नाकाबंदी कर तलाश की, परंतु आज मिले शव के बाद पुलिस ने गुमशुदा प्रकाश जग्गी के परिजनों को शिनाख्त के लिए मौके पर बुलाया, तो परिजनों का इस पर कहना था कि शव के स्वेटर, जूते व साथ मे पड़ी टॉर्च की, तो उन्होंने पहचान कर ली, परंतु शव की पहचान को लेकर परिजनों ने संशय जताया है कि ये व्यक्ति प्रकाश जग्गी हो भी सकते हैं और नहीं भी।

बेहद पेचीदा इस मसले को सुलझाने के लिए मौके पर एसपी कांगड़ा व डीएसपी ज्वालामुखी भी पहुंचे और उन्होंने शव को कब्जे में लेकर डीएनए टेस्ट व पोस्टमार्टम के लिए आरपीजीएमसी टांडा भेजा दिया है। एसपी कांगड़ा विमुक्त रंजन ने गुमशुदा प्रकाश जगी के परिजनों को ढाढस बंधाया है व कहा कि पुलिस इस मामले में निष्पक्ष जांच की कार्रवाई अमल में लाएगी। फिलहाल पुलिस ने स्वेटर, टार्च व जूते कब्जे में ले लिए हैं और आगामी कार्रवाई अमल में लाई जा रही है। गौरतलब है कि सेवानिवृत्त अध्यापक के परिजन पिछले कई दिनों से उनकी गुमशुदगी को लेकर बहुत परेशान थे और इस संदर्भ में उन्होंने कुछ लोगों पर उनका अपहरण करने के आरोप लगाकर मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर से पालमपुर में मिलकर न्याय की गुहार भी लगाई थी अपने स्तर पर भी उन्होंने तलाश की थी, परंतु रविवार को जंगल में मिले शव से कई सवालों को जन्म मिल रहा है। पुलिस मामले को गंभीरता से लेकर चल रही है और जांच चल रही है। मामले की पुष्टि डीएसपी तिलकराज शांडिल ने की है।