31 साल से रेगुलर नहीं हुए मंदिर कर्मचारी

By: May 8th, 2021 12:11 am

दो शहनाई वादक-एक नृसिंह वादक देख रहे नियमित होने की राह

दिव्य हिमाचल ब्यूरो—ज्वालामुखी
ज्वालामुखी मंदिर में 31 सालों से कार्यरत तीन कर्मचारी मंदिर प्रशासन की बेरुखी के कारण 31 सालों में नियमित नहीं हो सके हैं। दो शहनाई वादक व एक नृसिंहा वादक पिछले कई सालों से रेगुलर होने के लिए मंदिर प्रशासन के आगे कई बार गिड़गिड़ा चुके हैं, लेकिन आज तक उन्हें पक्का नहीं किया गया है। विश्व हिंदू परिषद के जिला देहरा के अध्यक्ष प्रशांत शर्मा का कहना है कि ज्वालाजी मंदिर प्रशासन ने जान-बूझकर दो समुदाय विशेष के कर्मचारियों को मंदिर में नियुक्त कर हिंदुओं की धार्मिक भावनाओं से कुठाराघात किया है, जो कि कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। उल्लेखनीय है कि 31 वर्षों से ज्वालाजी मंदिर में कार्यरत तीन कर्मचारियों को इतना लंबा अरसा बीत जाने के उपरांत भी रेगुलर नहीं किया गया है, जबकि इन तीन कर्मचारियों के साथ नियुक्त अन्य कर्मचारी मंदिर में ही पदोन्नत होकर सुपरिंटेंडेंट पद पर बैठ गए हैं। काबिलेगौर है कि विश्व हिंदू परिषद द्वारा किए गए भारी विरोध के चलते जिला तथा मंदिर प्रशासन ने इन दो विशेष समुदाय के कर्मचारियों का तबादला धर्मशाला तो कर दिया है, लेकिन इन्हें मंदिर न्यास ज्वालाजी से नहीं हटाया गया है।

हिंदुओं में आक्रोश की ज्वाला भड़काने का काम जिला प्रशासन ने जानबूझकर किया है। जबकि तीन हिंदू कर्मचारी 31 सालों से मंदिर में रेगुलर होने के लिए जिला प्रशासन के पास चिल्ला रहे हैं। परिषद ने सरकार से मांग की है कि ज्वालाजी मंदिर में 31 सालों से कार्यरत तीन कर्मचारियों को तुरंत नियमित किया जाए तथा मंदिर में नियुक्त दो विशेष समुदाय के कर्मचारियों को तत्काल प्रभाव से निलंबित किया जाए । इस संबंध में ज्वालाजी मंदिर के सहायक आयुक्त एवं उपमंडल अधिकारी धनवीर ठाकुर का कहना है कि उन्हें इस मामले की पूरी जानकारी नहीं है। 31 सालों से ज्वालाजी मंदिर में सेवाएं दे रहे तीन कर्मचारियों को आज तक रेगुलर क्यों नहीं किया गया है। इनके रेगुलर न होने के पीछे क्या कारण रहे पता लगाया जाएगा।