मई में मौसम सुहावना पर शहर-गांव वीरान

By: May 10th, 2021 12:12 am

कोरोना संक्रमण के चलते पर्यटन सीजन ठप स्थानीय लोग भी घरों में रहने को मजबूर

कार्यालय संवाददाता- पालमपुर
मई के महीने में बीते वर्षों के मुकाबले अपेक्षाकृत सुहावने मौसम के बीच भी पालमपुर उपमंडल के शहर और गांव पूरी तरह सुनसान दिखाई दे रहे हैं। कोरोना की मार से लगी बंदिशों के कारण पर्यटन व्यवसाय पूरी तरह ठप होकर रह गया है, वहीं कोरोना कफ्र्यू के कारण स्थानीय लोग भी घरों में रहने को मजबूर हैं। मई के महीने में मौसम का बदला मिजाज गर्मियों मे सर्दियों का एहसास करवा रहा है। लगातार दो-तीन दिन से दोपहर बाद अचानक मौसम के तेवर बदल रहे हैं और बारिश भी हो रही है। मई के महीने में जहां पालमपुर के प्रमुख पर्यटक स्थलों सौरभ वन विहार और न्यूगल पार्क में लोगों की भीेड़ जुटी रहती थी, वहीं इस बार कोरोना ने सबको घरों में रहने को मजबूर कर दिया है। पालमपुर के पर्यटक स्थल वीरान पड़े हुए हैं और खासकर शाम के समय गर्मी से राहत के लिए इन स्थलों का रुख करने वाले लोग कोरोना बंदिशों के कारण वहां तक नहीं पहुंच पा रहे हैं।

मई के महीने में पालमपुर का मौसम खुशगवार बना हुआ है, लेकिन न तो पर्यटक दिख रहे हैं, न ही स्थानीय लोग बाहर निकल कर इस मौसम का आनंद ले पा रहे हैं। पालमपुर सहित मारंडा, भवारना व पंचरुखी आदि सभी मुख्य बाजारों में पूरी तरह सन्नाटा पसरा हुआ है और सोमवार से तो बंदिशें और सख्त होने जा रही हैं। सोमवार से सिर्फ आवश्यक वस्तुएं की दुकानें खुली रहेंगी और वह आठ से 11 बजे तक तीन घंटे के लिए। इस दौरान भी रोजाना के जरुरी सामान के लिए कम ही लोग बाहर निकल पाएंगे और अकारण बाहर बाजारों में पहुंचने और गैर जरूरी सामान की दुकानों को खोलने वालों पर कार्रवाई की जाएगी। ऐसे में अब आने वाले सप्ताह में लोगों को पूरी तरह घरों की चारदीवारी में रहकर कोरोना से बचाव करना होगा। मई के महीने में इस समय जब पालमपुर का औसत तापमान 30 डिग्री के पार होता है। इस बार चार से पांच डिग्री कम दर्ज किया जा रहा है। सुहावने मौसम के बावजूद पर्यटन व्यवसाय पर कोरोना की मार पड़ी है और चारों ओर सन्नाटा पसरा हुआ है। चार मई के बाद से पालमपुर में करीब 50 मिमी बारिश दर्ज की जा चुकी है और धौलाधार की पहाडिय़ों पर बर्फ दिख रही है।