घर से दी कोरोना को शिकस्त

By: May 13th, 2021 12:10 am

मंडी जिला में होम आइसोलेशन में ठीक होने वाले रोगियों का आंकड़ा 93 फीसदी

कार्यालय संवाददाता-मंडी
मंडी जिला में 93 फीसदी से अधिक कोरोना संक्रमित लोग होम आइसोलेशन में ठीक हो रहे हैं। इसकी एक बड़ी वजह यह है कि प्रदेश सरकार ने होम आइसोलेशन में रह रहे लोगों के लिए बेहतर स्वास्थ्य निगरानी की व्यवस्था की है। जिला में स्वास्थ्य महकमे के साथ आयुष विभाग होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों की देखभाल का जिम्मा निभा रहा है। बता दें, मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों के लिए अच्छी से अच्छी व्यवस्था करने के निर्देश दिए हैं।

उनके निदेर्शों के अनुरूप मरीजों की पूरी देखभाल की जा रही है। रोजाना उनके स्वास्थ्य की स्थिति की निगरानी एवं फॉलोअप की व्यवस्था की गई है। जिला आयुर्वेदिक अधिकारी डा. गोविंद राम शर्मा ने इस बारे में जानकारी देते हुए बताया कि आयुष विभाग ने होम आइसोलेट कोरोना मरीजों की निगरानी के लिए व्यापक प्रबंध किए हैं। जिला में पांच उपमंडलीय आयुर्वेदिक चिकित्सा अधिकारियों की देखरेख में सभी 11 स्वास्थ्य खंडों में होम आइसोलेट मरीजों की नियमित रूप से स्वास्थ्य संबंधी निगरानी की जा रही है। विभाग के आयुर्वेदिक अधिकारी एवं कर्मी कोरोना योद्धा के रूप में पूरे समर्पण से अपना दायित्व निभा रहे हैं। वे दिन-रात कोरोना मरीजों की सेवा में तत्पर हैं।

जिला आयुर्वेदिक अधिकारी स्वयं दे रहे सेवाएं
होम आइसोलेशन रोगियों का हालचाल जानने जिला आयुर्वेदिक अधिकारी डा. गोविंद राम शर्मा खुद मरीजों के घर जा रहे हैं। उनके स्वास्थ्य संबंधी जानकारी प्राप्त करने के साथ रोगियों की हरसंभव सहायता कर उनकी समस्याओं के समाधान के लिए प्रयासरत हैं। डा. गोविंद शर्मा ने बताया कि आयुष विभाग की टीम होम आइसोलेट मरीजों की निगरानी के दौरान स्वास्थ्य संबंधी कोई गिरावट पाने पर तुरंत उसकी सूचना संबंधित खंड स्वास्थ्य अधिकारी को देती है। उन्होंने कहा कि आयुष विभाग की स्वास्थ्य टीम को पंचायत प्रतिनिधियों तथा आशा स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं का भी पूर्ण सहयोग मिल रहा है। होम आइसोलेशन रोगियों का हालचाल जानने जिला आयुर्वेदिक अधिकारी डा. गोविंद राम शर्मा खुद मरीजों के घर जा रहे हैं।

कोरोना रोगियों के लिए आयुष काढ़ा
मरीजों को स्वास्थ्य विभाग के सहयोग से मेडिकल किट उपलब्ध करवाई जा रही है, जिसमें आयुष काढ़ा भी सम्मिलित है। स्वास्थ्य कर्मी कोविड मरीजों को आयुष काढ़ा के प्रयोग करने बारे में भी विस्तार से बता रहे हैं। उन्होंने बताया कि कोरोना के उपचार में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में आयुष काढ़ा बड़ा कारगर है। आयुष विभाग ने स्वास्थ्य विभाग को आयुष काढ़ा के एक हजार से अधिक पैकेट प्रदान किए हैं।

घर जाकर दे रहे स्वास्थ्य संबंधी परामर्श
जिला आयुर्वेदिक अधिकारी डा. गोविंद शर्मा ने बताया कि आयुष स्वास्थ्य कर्मी कोरोना संक्रमित रोगियों के घर जाकर उनसे मुलाकात कर स्वास्थ्य जांच करने के अलावा जरूरी परामर्श देकर उनका मनोबल भी बढ़ा रहे हैं। उन्हें आयुर्वेदिक उपायों और उपयोगी योगासनों के बारे में बता रहे हैं। इसके अलावा विभाग के कर्मियों ने अब तक 3500 रोगियों से मोबाइल पर संपर्क कर स्वास्थ्य संबंधी परामर्श दिया है।