डीसी ने सर्वेक्षण कार्य के लिए मांगा सहयोग

By: Apr 21st, 2021 12:11 am

रिकांगपिओ में जंगी-थोपन जल विद्युत परियोजना के प्रभावितों से किया आह्वान, एसजेवीएनएल प्रबंधन के अधिकारी भी रहे मौजूद

मोहिंद्र नेगी-रिकांगपिओ
मंगलवार को जिला मुख्यालय रिकांगपिओ में उपायुक्त किन्नौर हेमराज बैरवा ने जंगी-थोपन जल विद्युत परियोजना से प्रभावित होने वाले छह पंचायतों जंगी, रारंग, कानम, अकपा, स्पीलो व मूरंग के जन-प्रतिनिधियों सहित परियोजना प्रभावितों तथा एसजेवीएनएल प्रबंधन के अधिकारियों के साथ आयोजित बैठक के दौरान लोगों से आग्रह किया कि वे भारत सरकार के पर्यावरण मंत्रालय द्वारा एसजेवीएनएल को दी गई मंजूरी के तहत जंगी-थोपन जल विद्युत परियोजना के सर्वेक्षण कार्य में अपना सहयोग दें। उन्होंने कहा कि इस बैठक का मुख्य उद्देश्य प्रभावित पंचायतों के लागों को परियोजना के बारे में जानकारी देना तथा लोगों में परियोजना को लेकर उत्पन्न शंकाओं का निवारण करना है। उन्होंने कहा कि परियोजना की विस्तृत परियोजना रिपोर्ट के लिए सर्वेक्षण आवश्यक है तथा सर्वेक्षण के आधार पर ही किसी भी परियोजना की रिपोर्ट तैयार की जा सकती है।

उन्होंने कहा कि परियोजना प्रबंधन व प्रभावित पंचायतों के जन प्रतिनिधियों को आपसी समन्वय से सर्वेक्षण प्रक्रिया पूर्ण करनी चाहिए, ताकि पर्यावरण मंत्रालय द्वारा दी गई तय सीमा के अंतर्गत सर्वेक्षण कार्य पूरा किया जा सके। बैठक के दौरान अतिरिक्त जिला दंडाधिकारी पूह की अध्यक्षता में एक समन्वय समिति गठित करने का भी निर्णय लिया गया जिसमें प्रभावित पंचायतों के जन प्रतिनिधि जिन में प्रभावित पंचायतों से संबंधित जिला परिषद सदस्य, पंचायत समिति सदस्य, ग्राम पंचायत प्रधान व उप प्रधान शामिल होगें। इसके अलावा प्रभावित पंचायत से 2-2 सदस्य भी मनोनीत किए जाएंगे। समिति में एसजेवीएनएल प्रबंधन के अधिकारियों के अतिरिक्त विभिन्न सरकारी विभागों के अधिकारी भी शामिल होगें, जो बैठक कर सर्वेक्षण कार्य की रणनीति तैयार करेंगे तथा लोगों की शंकाओं के निवारण के लिए भी कार्य करेंगे। उन्होंने प्रभावित पंचायतों के प्रतिनिधियों को आश्वस्त किया कि सर्वेक्षण रिपोर्ट आने के उपरांत यदि यहां इस परियोजना को लगाने की व्यवहार्यता बनती है, तो उसके लिए प्रभावित ग्राम पंचायतों से मंजूरी ली जाएगी। उन्होंने कहा कि ग्राम पंचायतों की मंजूरी के बिना कोई भी परियोजना नहीं लग सकती है। इस दौरान एसजेवीएनएल प्रबंधन द्वाराजंगी-थोपन जल विद्युत परियोजना पर एक प्रस्तुति भी दी गई, जिसमें बताया गया कि यदि सर्वेक्षण में इस परियोजना को लगाने की व्यवहार्यता बनती है तो इस परियोजना पर अनुमानित लागत 5708 करोड़़़़ रुपए होगी।
…(एचडीएम)