प्रो. मोहन झारटा विभागाध्यक्ष, समाजशास्त्र एचपीयू, शिमला समाजशास्त्र में करियर संबंधित विस्तृत जानकारी प्राप्त करने के लिए हमने  मोहन झारटा से बातचीत की। प्रस्तुत हैं बातचीत के प्रमुख अंश.. समाजशास्त्र का क्या महत्त्व है, इस क्षेत्र में करियर के नए अवसर पैदा हो रहे हैं, इसका क्या कारण है? समाजशास्त्र समाज में रहने वाले लोगों

भानु धमीजा सीएमडी, ‘दिव्य हिमाचल’ लेखक, चर्चित किताब ‘व्हाई इंडिया नीड्ज दि प्रेजिडेंशियल सिस्टम’ के रचनाकार हैं सच्चाई यह है कि भारत की नौकरशाही, हर अन्य चीज की तरह, भारत की कमजोर राजनीतिक व्यवस्था से त्रस्त है। इस व्यवस्था में मूलभूत कमजोरियां – शक्तियों का सम्मिश्रण, एकल नियुक्ति  प्राधिकारी, राजनेताओं से मंत्री बनाना, विधायी दूरदृष्टि न

पटड़ीघाट, बलद्वाड़ा — ग्राम पंचायत पटड़ीघाट के वार्ड कलखर का रत्न चंद (40 )पुत्र भूरु चार दिन पहले लापता हो गया था।  पांच जुलाई को उसका शव ग्राम पंचायत चौक के डोह नाले में मिला । गौरतलब हो कि रत्न  चंद दो जुलाई को हल जोतने के लिए ग्राम पंचायत चौक के चमरहानी गांव गया

रोहड़ू— मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने कहा कि प्रदेश में पर्याप्त संख्या  में शिक्षा एवं स्वास्थ्य संस्थान खोले गए हैं तथा अब इन्हें और सुदृढ़ करने की आवश्यकता है। मुख्यमंत्री मंगलवार को शिमला जिला के रोहड़ू क्षेत्र के संदासू में एक जनसभा को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि रोहड़ू अस्पताल को स्तरोन्नत कर

शिमला — प्रदेश सरकार द्वारा अवैध भवनों को नियमित करने के लिए लाए गए अध्यादेश को नगर निगम सदन ने खारिज किया है। निगम सदन ने माना कि अध्यादेश जनता के हित में नहीं है। अध्यादेश में जरूरत से ज्यादा नियम लगाए हैं, जिसके चलते हजारों भवन शर्तों के दायरे से परे हैं। इसलिए सदन

मंडी— रविवार को औट के नजदीक हुए हादसे के बाद उपायुक्त  मंडी संदीप कदम ने मंगलवार को हादसा स्थल का दौरा किया। उन्होंने ब्यास में बहे लोगों की तलाश में जारी राहत व बचाव कार्यों का जायजा लिया और प्रभावितों के परिजनों से भेंट की। उन्होंने राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के अधिकारियों को दुर्घटनास्थल तथा आसपास

(डीआर सकलानी लेखक, सरकाघाट, मंडी से हैं) जैविक खेती के लिए न तो किसान को कर्ज की आवश्यकता है, न ही नशेड़ी लत की तरह की सबसिडी की। पहाड़ी राज्यों में सिक्किम जैविक राज्य बन सकता है, तो देवभूमि हिमाचल क्यों नहीं? हिमाचल में हर किसान को जैविक खेती अपनाने के भरसक प्रयास करने होंगे,

(जयेश राणे, मुंबई, महाराष्ट्र) केंद्र सरकार थल सेना में अलग से महिला बटालियन खड़ी करने पर विचार कर रही है। भारत में महिलाओं को हमेशा उचित सम्मान दिया गया है। तमाम कोशिशों के बावजूद जिन क्षेत्रों में महिलाओं की उपस्थिति दर्ज नहीं करवाई जा सकी है, वहां भी महिलाओं को सम्मानजनक स्थान मुहैया करवाने के

(देशबंधु रक्कड़) सरकार मनरेगा के अंतर्गत ग्रामीण रोजगार देने और न्यूनतम सुविधाएं यथा रास्ते, कुएं, तालाबों का जीर्णोद्धार, भूमि के क्षरण को रोकने के लिए छोटे-छोटे के्रट लगाने के लिए करोड़ों के बजट का प्रावधान करती है। धन का दुरुपयोग न हो, इस हेतु नाममात्र की सुरक्षा कमेटियां भी गठित की जाती हैं। शिकायतें होती

(मोती राम चौहान, करसोग, मंडी) सरकारी स्कूल मूलभूत सुविधाओं और कुशल शिक्षकों के लिहाज से निजी स्कूलों से कम नहीं हैं, फिर भी एक होड़ सी लगी है कि बच्चों को निजी स्कूलों में पढ़ाओ। सरकारी स्कूलों में भवन, मैदान, पुस्तकालय सुविधाओं के साथ, मुफ्त वर्दी, दोपहर का खाना और मुफ्त किताबें, बसों में आने-जाने