थल्ली में छह मकान दरके, कंचेला स्कूल भी शिकार

By: Mar 9th, 2012 12:04 am

 चंबा — हाल ही में हुई भारी बारिश तथा बर्फबारी के कारण थल्ली गांव खतरे की चपेट में आ गया है, अगर समय रहते इसके रोकने के उपाय नहीं किए गए तो गांव इतिहास के गर्त में समा सकता है। अब तक गांव के छह मकान ध्वस्त हो चुके हैं, जबकि भू-स्खलन का क्रम जारी है। इस समस्या को लेकर ग्राम पंचायत थल्ली की प्रधान धारो देवी की अगवाई में एक प्रतिनिधिमंडल एडीएम चंबा से मिला तथा गांव को इस खतरे से उबारने के लिए कोई उपाय करने की गुहार लगाई। ज्ञापन के माध्यम से रखी गई मांग में कहा गया है कि डेंजर जोन बन चुके स्थानों पर खतरे को रोकने के लिए क्रेट वर्क व सीमेंट युक्त डंगे लगाए जाएं। इस संबंध में ग्राम पंचायत थल्ली ने एक प्रस्ताव भी पास किया है कि गांव में तथा आसपास क्रेट तथा डंगे सीमेंट युक्त लगाकर उनका निर्माण करना बहुत जरूरी है तथा इस कार्य के लिए पंचायत ने प्रशासन से दस लाख रुपए की राशि की मांग की है। ग्राम पंचायत के अनुसार स्कूल में प्रातःकालीन सभा व खेल गतिवधियों के लिए कोई स्थान नहीं रह गया, इसलिए इस खेल के मैदान के निर्माण के लिए पांच लाख रुपए के बजट का प्रावधान करने का प्रस्ताव भी पास किया है। प्रतिनिधिमंडल ने बताया कि इस बार की बर्फबारी व बारिश के बाद हुए भू-स्खलन से प्राथमिक पाठशाला थल्ली के भवन व कमरों में दरारें पड़ चुकी हैं तथा भवन खतरनाक हो चुका है। इसमें बच्चों का पढ़ना खतरे से खाली नहीं है। अतः इस स्कूल भवन तोड़कर नया भवन बनाया जाए।

 तीसा — तीसा में इस बार बारिश-बर्फबारी से सभी विभागों को लाखों की चपत लगी है। इसी कारण शिक्षा विभागों को भी काफी नुकसान हुआ है। जानकारी के अनुसार कंचेला प्राइमरी स्कूल के तीन कमरे क्षतिग्रस्त हो गए हैं, जो कभी भी गिर सकते हैं। इसी के चलते पहली से पांचवीं तक के छात्रों को आसमान तले खुले में पढ़ाई करनी पड़ रही है। सीएचटी झज्जाकोठी शेरदीन ने बताया कि भू-स्लखन से प्राइमरी स्कूल के तीनों कमरे दरक गए हैं। कंचेला स्कूल के अध्यापकों का कहना है कि अगर बारिश होती है तो मजबूरीवश छात्रों को छुट्टी करनी पड़ती है। इससे छात्रों की पढ़ाई पर विपरीत असर पड़ रहा है। अभिभावकों ने विभाग को दो टूक चेतावनी दी है कि अगर जल्द इस भवन ठीक नहीं करवाया तो वे अपने बच्चों को किसी दूसरे स्कूल में दाखिल करवा देंगे। गौरतलब है कि इन दिनों वार्षिक परीक्षाएं चल रही हैं। ऐसे में परीक्षा किसी के निजी मकान में करवाई जा रही है।