सेब-नींबू-राख से बिजली तैयार

By: Nov 2nd, 2010 11:27 pm

विनोद खांची, नारकंडा

कहते हैं होनहार बिरवान के होत चिकने पात। यह कहावत जेबीएल खाची वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला कुमारसैन के जमा दो के साइंस छात्र सुनील कुमार पर खरी उतरती है। सुनील कुमार ने कई प्रयोग व नई खोजे की हैं, जो प्रैक्टिकल पर सही साबित हुई हैं। सुनील कुमार ने सेब, नींबू व राख से विद्युत उत्पन्न की है, जिसे देखकर यहां के लोग हैरान हैं। सुनील का कहना है कि उन्होंने साधारण बैटरी बनाकर करीब दस सेबों से पांच से दस वोल्टेज तक विद्युत उत्पन्न की है, जिससे दो से तीन घंटे तक विद्युत संचालन रहता है। इसके अतिरिक्त राख व नींबू से भी बैटरी के माध्यम से विद्युत पैदा की है। सुनील का कहना है कि 250 ग्राम राख से करीब पांच से दस वोल्टेज विद्युत पैदा की जा सकती है। सुनील ने यह बताया कि उन्होंने होम मेड इन्क्यूरेटर की खोज की है जिसमें एग हेचिंग का टाइम पीरियड किया है। आमतौर पर इन्क्यूरेटर में हेचिंग का टाइम पीरियड 10 से 12 दिन कर दिखाया है। इस खोज से मुर्गी पालन दो गुना किए जाने का रिकार्ड बनाया है। सुनील ने बताया कि वह पानी से संबंधित कई प्रकार के प्रयोग करने में जुटे हैं। इसके अतिरिक्त बंदरों के आतंक से निजात पाने की विधि पर अध्ययन कर रहे हैं। सुनील कुमार ने बताया कि वह आठवीं कक्षा से ही नई खोज प्रयोग करने में लगे हैं। सुनील ने बताया कि वह निर्धन परिवार से संबंध रखता है, उसे नई-नई खोजे व नए-नए प्रयोग करने का शौक है, जिसमें काफी हद तक सफलता भी मिली है। वह छह बार ब्लाक स्तर पर छह बार जिला स्तर पर दो बार राज्य स्तर पर भाग ले चुके हैं। एक बार उनका चयन राष्ट्रीय स्तर पर हो चुका है। इन उपलब्धियों के लिए उन्हें विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग से स्कालरशिप मिल रहा है।